ہندی خبریں

शिक्षा का मंदिर बन रहा है व्यवसाय का अड्डा , आदर्श एकेडमी के निदेशक ने कहा अभी भी आधुनिकीकरण शिक्षा के अभाव में बच्चे उच्च स्तरीय शिक्षा प्राप्त करने को बेबस*

*अररिया से अल्लामा ग़ज़ाली की रिपोर्ट*
*अररिया*- रविवार को संपूर्ण भारत में गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया गया अररिया जिले के विभिन्न प्रखंड में आन बान शान के साथ झंडा फहराते हुए तिरंगे को सलामी पेश किया गया। जिला मुख्यालय में जिला प्रशासन की जानिब से तीन सत्रों में कार्यक्रम का आयोजन किया गया जहां एक तरफ नेताजी सुभाष स्टेडियम में दोपहर 2:00 बजे से पत्रकार एकादश प्रशासन एकादश के बीच क्रिकेट मैच खेला गया दूसरी ओर टाउन हॉल में स्थानीय कलाकारों के लिए सांस्कृतिक संध्या कर आयोजन कर 71 वां गणतंत्र दिवस समारोह की गूंज अररिय से हिंदुस्तान के कोने कोने तक भेजा गया। दूसरी ओर जिले के 9 प्रखंडों में भी विभिन्न सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाओं में ध्वजारोहण कर पड़ोसी मुल्क नेपाल और बांग्लादेश तक फहराते हुए तिरंगे को दिखाया गया। जोकीहाट प्रखंड के आदर्श एकेडमी में स्कूल के संचालक अरुण शर्मा ने झंडा तोलन किया ध्वजारोहण करने के बाद बच्चों ने राष्ट्रगान गा करें देशभक्ति होने का उसका सबूत पेश किया इस दौरान बच्चों के बीच क्विज प्रतियोगिता नृत्य प्रतियोगिता बीते दिनों लिया गया जांच परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन के बच्चे को स्कूल के निदेशक श्री अरुण शर्मा ने अपने हाथों छात्र छात्राओं को प्रोत्साहन स्वरूप इनामी राशि दिया। बता दें कि जोकीहाट प्रखंड के भीतर बीते 24 सालों से स्कूल चला रहे हैं अरुण सर कहते हैं की शिक्षा व्यवसाय का रूप धारण कर लिया है लेकिन मैंने स्कूल की बुनियाद क्षेत्र में पिछड़ेपन और शिक्षित समाज को देखते हुए छोटा सा कोचिंग संस्थान से शिक्षा की अलख जगाते हुए समाज के सभी वर्ग समुदाय के लोगों को कम शुल्क पर पढ़ाने का वादा किया। अरुण सर कहते हैं विभिन्न गांव का भ्रमण करते उनके अभिभावकों से मुलाकात कर बच्चों को पढ़ाने की अपील की।श्री अरुण के सार्थक प्रयास से जोकीहाट के बच्चे गर्व से कहता है कि मैं चाणक्य कोचिंग सेंटर का स्टूडेंट हूँ। यही वजह तो है कि आज अरुण सर के संचालन में चल रहा चाणक्य कोचिंग सेंटर के बच्चे लगातार 4 वर्षों से जिले के भीतर अपना परचम लहरा रहा है ।श्री अरुण ने बताया कि मैंने सोचा नहीं था कि इस समाज को मैं कुछ दे सकूंगा। लेकिन भगवान का आशीर्वाद और कृपा मेरे साथ रहा और हमने इलाके की अशिक्षित अभिभावकों के बच्चे को पढ़ाने की अपील को लोगों ने स्वीकार किया। आज तकरीबन 10000 छात्र छात्राओं को जिले के भीतर मैट्रिक परीक्षा में प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण कर सीमांचल ही नहीं बल्कि बिहार सरकार द्वारा भी पुरस्कृत जोकीहाट का नाम रौशन किया। एक सवाल के जवाब पर श्री अरुण ने कहा कि शिक्षा देने का उद्देश्य कदापि रूपया कमाना नहीं है।बल्कि शिक्षित समाज का निर्माण करने का प्रयास में जुटा हूँ।श्री अरुण ने बताया कि कोचिंग के बच्चे को जिला प्रशासन समेत बिहार सरकार ने भी मैट्रिक परीक्षा में अव्वल स्थान प्राप्त करने पर सम्मानित किया है। मेरे लिए सबसे बड़ी उपलब्धि यही है कि आज बच्चे जोकीहाट और अपने माता-पिता का नाम रौशन कर रहा है।अब लग रहा है कि मेरा सपना साकार होता दिख रहा है।

مزید پڑھیں

Urdutimes@123

ہندوستان اردو ٹائمز پر آپ سب کا خیر مقدم کرتے ہیں

متعلقہ خبریں

جواب دیجئے

Close